सपा में सुलह की उम्‍मीद कम, बैठक में पहुंचे आजम खान

यूपी में चुनाव की तारीखों का ऐलान को चुका है लेकिन सपा के संग्राम को लेकर कोई सुलह का रास्‍ता नहीं निकला है। इसकी उम्‍मीदें कम होने के बावजूद आजम अपनी कोशिश में लगे हैं। इस बीच वो पिछले दो घंटे से जारी अखिलेश यादव की विधायकों के साथ बैठक में पहुंचे हैं। कहा जा रहा है कि पूरे मामले पर आजम, अखिलेश यादव की राय जानने पहुंचे हैं। वहीं दूसरी तरफ शिवपाल अमर सिंह से मिलने दिल्‍ली जा सकते हैं। अब तक जो कोश‍िशें हुई हैं उसमें शिवपाल और अमर सिंह ने पार्टी छोड़ने की बात कही थी साथ ही अखिलेश के लिए शिवपाल अपनी सीट तक छोड़ने के लिए तैयार थे लेकिन मुलायम सिंह अब भी नहीं माने हैं और अध्‍यक्ष पद की कुर्सी पर बने रहना चाहते हैं। इससे पहले चुनाव की तारीखें आने पर अखिलेश ने कहा था कि जनता चाहती है यूपी में सपा की सरकार बने।

चुनाव आयोग ने दिया 9 जनवरी तक का समय

पार्टी के चुनाव चिन्‍ह साइकिल पर दोनों ही पक्ष दावा कर रहे हैं और इस बीच चुनाव आयोग ने नोटिस जारी कर अखिलेश और मुलायम सिंह यादव से कहा है कि वो अपने समर्थकों का हलफनामा पेश करे।इसके लिए उनके पास 9 जुलाई तक का वक्‍त है। इस हलफनामे में दोनों को यह बताना होगा कि उनके समर्थन में कितने विधायक और एमएलसी हैं। इससे पहले मुलायम सिंह ने अमर सिंह के माध्‍यम से चुनाव आयोग को ज्ञापन भेजा था जिसमें कहा गया है कि रामगोपाल यादव सपा से लिखित तौर पर निष्‍कासित किए जा चुके थे और ऐसे में राष्‍ट्रीय अधिवेशन बुलाने का उनके पास अधिकार नहीं है। यह अधिकार केवल राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष को ही है। इससे पहले बुधवार को भी जारी पार्टी में सुलह की कोशिशों को कोई आधार नहीं मिल पाया। पार्टी में टूट के नतीजे क्‍या होंगे इसकी एक तस्‍वीर हाल ही में जारी हुए एक न्‍यूज चैनल के सर्वे में सामने आई है ऐसे में सपा को सरकार बनानी है तो साथ चलना होगा लेकिन दोनों ही पक्ष सुलह नहीं कर पा रहे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *