योगी के सख्त तेवर का असर, वाराणसी में 32 लापरवाह कर्मियों पर गिरी गांज

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त तेवर दिखाने के बाद वाराणसी में दो दिनों के दौरान कम से कम 32 स्थायी एवं अस्थायी कर्मचारियों और अधिकारियों पर गाज गिरी है। अपने कार्यों में लापरवाही बरतने के आरोपी कर्मचारियों को उनके पद से तत्काल हटाने का असर तमाम सरकारी कार्यालयों में दिख रहा है। जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र मंगलवार सुबह जिला मुख्यालय से लगभग 14 किलोमीटर दूर ग्रामीण इलाके के हरहुआ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर औचक निरीक्षण किया। उन्होंने स्वास्थ्य केंद्र पर टीकाकरण एवं अन्य योजनाओं का ब्यौरा कंप्यूटर में दर्ज नहीं होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को जमकर फटकार लगायी और कंप्यूटर ऑपरेटर हिंमाशु को उनके पद से तत्काल हटाने का आदेश दिया। उन्होंने प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि तमाम योजनाओं से संबंधित ब्यौरा कंप्यूटर में शत-प्रतिशत दर्ज करवाएं अन्यथा उनके विरुद्ध भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर डॉक्टरों की उपस्थिति समेत दवाओं की उपलब्धता की भी जांच की और प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया कि डॉक्टरों की उपस्थिति हर हाल में समय से सुनिश्चित कराई जाएं ताकि मरीजों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। मिश्र ने बाबतपुर-हरहुआ मार्ग स्थित होटल के. एस. इंटरनेशनल के सामने का अतिक्रमण को मौके पर खड़े होकर हटवाया और संबंधित विभागों के अधिकारियों से अवैध अतिक्रमणकारियों के खिलाफ अभियान चलाने का आदेश दिया। इससे पहले कल नगर निगम के आयुक्त डॉ. नितिन बंसल ने शहर की सफाई व्यवस्था के निरीक्षण के दौरान अपने कार्यों में लापरवाही बरतने एवं अनुपस्थित पाए गए 30 संविदा सफाई कर्मचारियों को उनके पद से हटाने का आदेश दिया था। इसी प्रकार पेयजल व्यवस्था में लापरवाही को गंभीरता से लेते हुए पिछले दिनों जल निगम के मंडल अक्षीक्षण अभियंता तथा पेयजल प्रभारी महाप्रबंधक वी.बी. सिंह को यहां से उनके पद से हाटाकर लखनऊ से सम्बद्ध कर दिया गया था। उधर, यातायात पुलिस महकमा शहर के कई क्षेत्रों में सडक़ किनारे अतिक्रमण हटाने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। आगामी 31 जनवरी तक शहर के ज्यादातर सडक़ों का अतिक्रमण मुक्त करने का लक्ष्य के साथ आला पुलिस अधिकारियों ने पुलिस के जवानों के साथ देर रात तक गश्त कर लोगों से खुद अतिक्रण हटाने की अपील की। गौरतलब है कि गत 4 जनवरी को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने 2 दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान स्थलीय निरीक्षण के बाद अगले दिन विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान जिले के अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा था कि लापरवाही और भ्रष्टाचार किसी भी कीमत पर बर्दास्त नहीं की जाएगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *