इस क्षेत्र में अगले छह महीने में 50 हजार नौकरियों पर संकट

किसी दौर में दिन दूनी, रात चौगुनी तरक्की करने वाले दूरसंचार क्षेत्र के लिए अगले छह से नौ महीने भारी संकट के रहने वाले हैं तथा इस दौरान इसमें 50,000 नौकरियां और जा सकती है। इस क्षेत्र में 2017 के शुरू से अब तक 40,000 नौकरियां जा चुकी हैं इस संकट में नौकरियों का कुल नुकसान 80,000 से 90,000 नौकरियां जाने की संभावना है।सीआईईएल एचआर सर्विसेस की एक रपट के मुताबिक दूरसंचार क्षेत्र इस समय बेहद प्रतिस्पर्धी दौर से गुजर रहा है। इसके चलते कंपनियों का लाभ और मार्जिन कम हुआ है।

दूरसंचार क्षेत्र में 90,000 नौकरियों को खतरा

इसकी वजह से जहां एक तरफ नौकरियां जाने की संभावना प्रबल होती है, वहीं इस क्षेत्र में अनिश्चिता के माहौल का भी निर्माण होता है। यह रपट दूरसंचार कंपनियों को सॉफ्टवेयर एवं हार्डवेयर सेवाएं उपलब्ध कराने वाली 65 तकनीकी कंपनियों के करीब 100 वरिष्ठ एवं मध्यम स्तर के कर्मचारियों के बीच किए गए सर्वेक्षण पर आधारित है। बेंगलुरु की सीआईईएल एचआर सर्विसेस के मुख्य कार्यकारी आदित्य नारायण मिश्रा ने कहा, ‘अगले दो-तीन तिमाहियों में नौकरियां जाने की दर ऊंची ही रहेगी। दूरसंचार क्षेत्र के 80 से 90 हजार लोगों की नौकरियां जा सकती हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *