73 साल के हुए जावेद अख्तर, मिल चुका है ‘पद्मश्री’ और ‘पद्म भूषण’

चाहे उन्हें कवि कह लो, गीतकार कह लो या लेखक जावेद अख्तर अपनी अगल ही पहचान रखते हैं और आज वो अपना 73वां बर्थडे मना रहे हैं. जावेद अख्तर का जन्म 17 जनवरी 1945 को ग्वालियर में हुआ था, उन्होंने अपनी पढ़ाई लखनऊ में की है. बतातें चले कि जावेद अख्तर को कवि और लेखन की कला उनके पिता निसार अख्तर से विरासत में मिली है. उनकी माँ भी एक लेखक, टीचर और सिंगर थीं. जावेद अखतर बॉलीवुड में एक जाने-माने शख्स हैं, उन्होंने न जाने कितनी हिट फिल्मों की स्क्रिप्ट लिखी है. 70-80 के दशक में सलमान खान के पिता सलीम खान के साथ मिल कर कई हिट फिल्मों के गाने और स्क्रिप्ट लिखे हैं. दोनों के जोड़ी बॉलीवुड में काफी मशहूर है. दोनों ने साथ मिलकर अंदाज, जंजीर, दीवार, यादों की बारात और शोले की पटकथा लिखी है. इस जोड़ी की सबसे हिट फिल्म ‘शोले’ ही है. एक के बाद एक सुपरहिट फ़िल्में दे चुके सलीम और जावेद को सलीम-जावेद के नाम से जाना जाने लग गया था. दोनों ने आखरी बार 1987 में साथ में काम किया है लेकिन किसी मतभेद के कारण दोनों ने दोबारा साथ में काम नहीं किया. आखिरी बार इस जोड़ी को फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ में साथ देखा गया था. जिसके बाद से दोनों के रास्ते अलग हो गए. जावेद अख्तर को अपने काम के कारण 1999 में पद्मश्री और 2007 में पद्म भूषण से सम्मानित किया जा चुका है. जोकि भारत के तीसरे और चौथे सर्वोच्च सम्मान में से एक है. बात करें उनके पर्सनल लाइफ की तो उन्होंने 1972 में हनी ईरानी से शादी की थी. हनी भी एक लेखक थीं. जावेद और हनी के दो बच्चे फरहान अख्तर और जोया अख्तर हैं और दोनों ही बॉलीवुड में काफी सक्सेस फिल्म डायरेक्टर हैं. फरहान अख्तर अपने पिता के साथ मिलकर कई हिट फिल्मे दे चुके हैं जैसे ‘दिल चाहता है’, ‘लक्ष्य’, ‘रॉक ऑन’ तो वहीँ जोया ने भी अपने पिता के साथ फिल्म ‘ज़िन्दगी न मिलेगी दोबारा’ में काम किया है. जावेद अख्तर और हनी ईरानी के बीच शादी का रिश्ता ज्यादा समय तक नहीं चल पाया और 1978 में दोनों अलग हो गये. इसके बाद जावेद साहब ने बॉलीवुड एक्ट्रेस शबाना आज़मी से शादी की. जावेद अख्तर को उनके काम के लिए 5 बार नेशनल अवार्ड मिल चुका है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *