जानें, नींद और लार का क्या है संबंध?

अक्सर हम देखते है कि कई बच्चे जब सोकर उठते है तो उनकी मुंह से लार बह रही होती है। ये समस्या बच्चों में नहीं बल्कि बड़ो में भी देखी जाती है। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे है तो हम आपको इसका कारण।

नींद और लार का क्या है संबंध?

जब कोई बच्चा गहरी नींद से सोकर उठता है तो उसके मुंह के किनारे से लार की पतली सी धार बह रही होती है। हालांकि सोते हुए लोगों के मुंह से लार बहना बहुत आम बात है लेकिन कई बार ये किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी होता है। आइए पहले जानते हैं कि आपकी नींद और लार बहने के बीच क्या संबंध है।

कब बहती है लार

जब आप नींद में होते हैं तो आप और आपकी चेहरे की नसें आराम के मूड में होती हैं। इसलिए ऐसे में जब आपके लार के ग्लैंड्स लार तैयार करते हैं तो वो बहने लग जाती है क्योंकि आप उसे निगलते नहीं हैं। अगर आपकी सोते हुए लार बहती है तो आपने देखा होगा कि लार आमतौर पर तभी बहती है जब आप करवट लेकर सोते हो। हम आपको बताते है कि लार बहने के क्या कारण होते है।

– एलर्जी

खाने पीने की चीजों से होने वाली एलर्जी और नाक से संबंधित एलर्जी की वजह से लार का अधिक निर्माण हो सकता है और वो बह सकती है। शरीर में लार बनाने वाले अलग से ग्लैंड्स होते हैं। सोते समय जागते समय की अपेक्षा अधिक लार का निर्माण होता है।

– एसीडिटी

वैज्ञानिकों का मानना है कि एसिड रिफ्लक्स एपीसोड्स के कारण गेस्ट्रिक एसिड होता है। इससे एसोफागोसलाइवरी उत्तेजित होता है और बहुत अधिक लार बनने लगती है।

– साइनस इंफेक्शन

श्वास नलिका के संक्रमण आमतौर पर सांस लेने और निगलने की समस्याओं से जुड़े होते हैं। इन समस्याओं में लार जमा हो जाने से मुंह से बहने लगती है। फ्लू के कारण जब नाक बंद होती है तो आप खासतौर पर रात को अपने मुंह से सांस लेते हैं और ऐसे में आपके मुंह से लार बहने लगती है।

– टोंसिलाइटिस

टोंसिल्स ग्लैंड्स गले के पीछे मौजूद होते हैं, जिनमें सूजन आ जाने से टोंसिलाइटिस हो सकता है। सूजन की वजह से गले का रास्ता छोटा हो जाता है जिससे लार गले से उतर नहीं पाती और मुंह से बहने लग जाती है।

– सोते हुए डरना

कुछ लोगों को सोते हुए डर लगता है। इस समस्या का एक लक्षण लार बहना भी है। युवाओं में साइकोपैथोलॉजिकल कारण से ये समस्या होती हैं। ऐसा उनके भावनात्मक तनाव में होने के कारण, ड्रग्स या एल्कोहल लेने के कारण और नींद की कमी के कारण भी हो सका है। इसके इलावा कई बार नींद से जुड़ी अन्य समस्याओं जैसे नींद में चलना, नींद में बात करना आदि में भी लार बहती है।

– ड्रग्स और केमिकल्स

ड्रग्स और केमिकल्स के कारण भी लार का निर्माण होता है। अगर आप कोई दवाई या ड्रग्स ले रहे हैं तो सोते हुए लार बहना आपके लिए बहुत आम बात हो सकती है। कुछ एंटीडिप्रेसेंट और दवाएं जैसे कि मॉर्फिन, पिलोकार्पिन आदि लार का निर्माण बढ़ा देती हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *