पीएम मोदी व वियतनाम के राष्ट्रपति त्रान दाई क्वांग के बीच हुई व्यापक बातचीत

भारत व वियतनाम ने एक सक्षम व नियम आधारित क्षेत्रीय सुरक्षा व्यवस्था के साथ मुक्त व समृद्ध भारत- प्रशांत एरिया के लिए मिलकर कार्य करने का संकल्प जताया. इसे एरिया में चाइना के बढ़ते सैन्य विस्तार को देखते हुए एक संदेश के रूप में देखा जा रहा है. पीएम नरेंद्र मोदी व वियतनाम के राष्ट्रपति त्रान दाई क्वांग के बीच व्यापक वार्ता के बाद शनिवार को दोनों रणनीतिक भागीदारों ने ऑयल व गैस खोज एरिया में आपसी संबंध बढ़ाने के साथ ही परमाणु ऊर्जा, व्यापार एवं कृषि एरिया में तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए. मोदी ने इस मौका पर बोला कि दोनों पक्षों ने एक खुली, सक्षम व नियम आधारित क्षेत्रीय व्यवस्था के लिए प्रतिबद्धता जताई है. साथ ही समुद्री एरिया में योगदान आगे बढ़ाने पर जोर दिया है. वियतनाम के राष्ट्रपति की उपस्थिति में मोदी ने एक जारी बयान में कहा, ‘हम मिलकर एक खुले, स्वतंत्र व समृद्ध भारत- प्रशांत एरिया के लिए कार्य करेंगे जिसमें संप्रभुता व अंतर्राष्ट्रीय कानूनों का सम्मान होगा व जहां मतभेदों को वार्ता के जरिए सुलझाया जाएगा. दक्षिण चाइना सागर को लेकर चल रहे टकराव का स्पष्ट तौर पर संदर्भ देते हुए वियतनाम के राष्ट्रपति ने बोला कि वह आसियान राष्ट्रों के साथ हिंदुस्तान के बहुआयामी ‘संपर्क’ का समर्थन करता है. वियतनाम इस बात पर जोर देता है कि एरिया में नौवहन व आकाश में उड़ान की आजादी होनी चाहिए. उन्होंने बोला कि किसी भी टकराव का हल शांतिपूर्ण तरीके से निवारण किया जाना चाहिए. इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने वियतनाम के राष्ट्रपति के साथ मुलाकात की. राष्ट्रपति क्वांग का राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत भी किया गया.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *